त्रिफला चूर्ण के फायदे, उपयोग और नुकसान – Triphala Churna Ke Fayde Aur Nuksan In Hindi

0
421
triphala benefits in hindi
triphala benefits in hindi

dabur baidyanath triphala churna ras juice ka sevan kaise kare fayde benefits of weight loss meaning side effects aur nuksan in hindi : त्रिफला चूर्ण एक आयुर्वेदिक नुस्खा हैं जोकि कई बीमारियों को दूर करने के लिए प्रमाणित किया जा चुका हैं। बता दें कि आज की भागदौड़ भरी जिंदगी में स्वस्थ सम्बंधी समस्या उत्पन्न होना स्वाभाविक सी बात हैं। लेकिन त्रिफला चूर्ण का सेवन करने से आपको इन सबसे निजाद मिल जाएगा। बता दें कि यह चूर्ण तीन फल आंवला, बहेड़ा और हरड से मिलकर बनता हैं। त्रिफला रस पीने के फायदे भी हमे मिलते हैं। आज हम अपने इस लेख में आपको त्रिफला के फायदे, नुकसान, त्रिफला से हानि और इसके उपयोग के बारे में जानकारी देने जा रहे हैं, इसलिए आप हमारे इस लेख को पूरा अवश्य पढ़े।

त्रिफला चूर्ण खाने के फायदे – Benefits Of Triphala Churna In Hindi

triphala ke fayde डाबर त्रिफला चूर्ण, त्रिफला रस और बैद्यनाथ त्रिफला चूर्ण के कई फायदे हमें देखने को मिलते हैं, आपन नीचे त्रिफला चूर्ण के टॉप 15 फायदों से अवगत होंगे।

बेस्ट त्रिफला चूर्ण के फायदे वजन घटाए – Triphala Churna Se Vajan Ghataye In Hindi

त्रिफला बढ़ते हुए वजन को कम करने में लाभदायक होता हैं। त्रिफला चूर्ण में उपस्थित लेने से शरीर में कोलीसिस्टोकाइनिन का स्राव होता है। बता दें कि कोलीसिस्टोकाइनिन एक तरह का हार्मोंन जोकि आपके दिमाग को तेजी से बताता हैं की पेट भरा हुआ हैं। साथ त्रिफला चूर्ण तोंद की चर्बी को कम करता हैं, इसका लाभ लेने के लिए आप दिन में तीन बार सुबह, दोपहर और शाम को गर्म पानी के साथ सेवन कर सकते हैं।

त्रिफला चूर्ण पतंजलि के फायदे पाचनतंत्र को बेहतर बनाए – Baidyanath Triphala Churna Ke Fayde For Digestion In Hindi

ऐसे व्यक्ति जो पाचन क्रिया के ठीक न होने की वजह से परेशान रहते हैं इस नुस्खे का सेवन कर सकते हैं। यह मल त्याग करने की प्रक्रिया को आसान बना देता हैं, यदि आपका पेट फूल रहा हैं या गेस बन रही हैं और आपको दस्त लगे हुए है, तो आप रोजाना सुबह पानी के साथ इसका उपयोग कर सकते हैं।

त्रिफला रस के फायदे डिटॉक्सिफिकेशन में – Triphala Juice Peene Ke Fayde For Detoxifier In Hindi

त्रिफला डिटॉक्सिफिकेशन में बहुत महत्वपूर्ण होता हैं, क्योंकि विभिन्न कारणों से हमारे शरीर में विषैले पदार्थ यानि की टॉक्सिक जमा होने लगते हैं और फिर धीरे धीरे कील, मुहांसे, पेट की समस्सया और अनिद्रा जैसी परेशानी के रूप में सामने आते हैं। लेकिन इन सब का रामवाण त्रिफला चूर्ण हैं।  

डाबर त्रिफला चूर्ण संक्रमण से सुरक्षित रखता और प्रतिरक्षा को बढ़ाता है – Patanjali Triphala Churna Khane Ke Fayde For Infections And Enhances Immunity In Hindi

त्रिफला खाने से हमारा शरीर तरह तरह के संक्रमण से सुरक्षति रहता हैं और प्रतिरक्षा क्षमता को बढ़ाता हैं। क्योंकि बैक्टीरिया किसी को भी हो सकता हैं।

त्रिफला रस के फायदे गैस्ट्रिक अल्सर के इलाज – Triphala Benefits For Treating Gastric Ulcers In Hindi

त्रिफला खाने से गैस्ट्रिक अल्सर के उपचार में फायदा मिलता हैं। यदि आप नियमित रूप से इस नुस्खे का सेवन करते हैं तो आपकी आंतरिक और बाहरी अल्सर में सूजन कम हो जाती हैं। पेट की श्लेष्म झिल्ली मजबूत करने में सहायक होता हैं और एंजाइमों को बहाल कर विषैले पदार्थो को बाहर करने मदद करता हैं।

त्रिफला रस के फायदे आँखों के लिए – Aankhon Ke Liye Triphala Churna Ke Fayde In Hindi

त्रिफला के उपयोग आँखों को हेल्दी बनाए रखने में अहम भूमिका निभाते हैं। माना जाता हैं कि यह आँखों के लिए किसी वरदान से कम नही हैं और तेज द्रष्टि करता हैं, ग्लूकोमा, कंजक्टिवाइटिस, मोतियाबिंद जैसी बीमारियों से सुरक्षा प्रदान करता हैं। एक अध्यन में पाया गया हैं कि ऐसे व्यक्ति जो कंप्यूटर के सामने अधिक समय व्यतीत करते हैं, वह ‘कंप्यूटर विजन सिंड्रोम’ से ग्रसित हो जाते हैं। लेकिन त्रिफला इसका भी उपचार करने में समर्थ हैं।

घाव भरने में त्रिफला के लाभ – Triphala Benefits For Healing Wounds In Hindi

त्रिफला में चूर्ण में एंटी-माइक्रोबियल (anti-microbia) और एंटी-इंफ्लेमेटरी (anti-inflammatory) गुण मौजूद होते हैं। बता दें कि इन्ही गुणों के कारण यह घावों को ठीक करने में सहायक होता हैं और साथ रिकवरी भी तेजी से करता हैं।

यूरीन संक्रमण में त्रिफला चूर्ण के फायदे – Urine Infection Me Triphala Churna Ke Fayde In Hindi

पुरुषो या महिलाओं में होने वाले मूत्र संक्रमण से यह बचाव करता हैं। क्योंकि इससे होने पीढ़ा अत्यधिक कष्टदायक होती हैं। खासकर ऐसी स्थिति में जब इसके इलाज के पारंपरिक तरीको से आराम नही मिलता हैं तब आप त्रिफला चूर्ण का उपयोग कर सकते हैं।

त्रिफला के औषधीय गुण रक्तचाप के नियंत्रण में सहायक – Triphala Churna Khane Ke Fayde Bataye Blood Pressure Control Mein In Hindi

त्रिफला खाना ऐसे व्यक्तियों के लिए अच्छा माना जाता हैं जोकि अनियमित रक्तचाप की समस्या से परेशान हैं। अनियमित रक्तचाप मानव शरीर में कई तरह की स्वास्थ्य सम्बंधी समस्याएं उत्पन्न कर सकता हैं। बता दें कि नियमित रूप से त्रिफला का उपयोग करने से यह रक्तचाप के स्तर को नियंत्रित करने में मदद करता हैं।

त्रिफला के लाभ हृदय स्वास्थ्य में – Triphala Benefits For Heart Health In Hindi

त्रिफला का सेवन करने से आपका रक्त संचार सही बना रहता हैं और रक्त संचार सही रहने की वजह से हमारा ह्रदय स्वस्थ बना रहता हैं। सही मायने में त्रिफला चूर्ण ह्रदय के लिए किसी टॉनिक से कम नही हैं। यह रक्तचाप को नियंत्रित करता हैं और कोलेस्ट्रोल को लो करता हैं।

हार्मोन के लिए त्रिफला के फायदे – Triphala Syrup Benefits For Keeps Your Hormones In Place In Hindi

त्रिफला चूर्ण खाने से आपके हार्मोन संतुलित रहते हैं। बता दें कि हार्मोन के असंतुलन की स्थिति में कई परेशानी का सामना करना पड़ सकता हैं। यदि आप दर्दनाक पीरियड्स या अनियमित पीरियड्स से परेशान हैं तो आप त्रिफला का सेवन कर सकते हैं। इसका सेवन आप रात में खाना खाने से लगभग दो घंटे पहले एक ग्लास गुनगुने पानी के साथ कर सकते हैं।

गठिया और जोड़ो के दर्द से राहत दिलाए पतंजलि त्रिफला चूर्ण – Patanjali Triphala Churna Benefits For Reducing Joint And Bone Pain In Hindi

ऐसे व्यक्ति जो हड्डी या गठिया के दर्द से ग्रस्ति हैं, वह त्रिफला का सेवन कर सकते हैं। बता दें कि बढ़ती उम्र और पोषक तत्वों की कमी के कारण यह समस्सया अक्सर देखने को मिलती हैं। जोड़ों की समस्या पर समय रहते ध्यान न दिया जाए तो यह गठिया की समस्या में भी तब्दील हो सकती हैं। बता दें कि यदि आपको गाउट, गठिया, जोड़ों में दर्द होता हैं तो एक चम्मच त्रिफला पाउडर को गर्म पानी में डालकर मालिश कर सकते हैं।

त्रिफला के फायदे बालों के लिए – Triphala Ke Fayde Balo Ke Liye In Hindi

त्रिफला हमारे बालों के लिए अच्छा माना जाता हैं क्योंकि इसमें उपस्थित औषधीय गुण बालों को झड़ने से रोकते हैं और तेज गति से बढ़ने में बढ़ने के लिए प्रोत्साहित करते हैं। यदि आप भी बालों की समस्या से परेशान हैं तो इस चमत्कारी चूर्ण का सेवन कर सकते हैं। त्रिफला में नमी करने वाले गुण विधमान हैं।

त्रिफला बेनिफिट्स फॉर दांत – Triphala Benefits For Teeth In Hindi

दांतों के लिए त्रिफला एक आयुर्वेदीक औषधि के रूप में कार्य करता हैं। यह ऐसे व्यक्तियों के लिए लाभकारी हैं जोकि मुंह की बदबू, मसूड़ों में सूजन, दांतों की कमजोरी और खून आने जैसी समस्या से परेशान हैं।

त्वचा के लिए त्रिफला के फायदे बताइए हिंदी में – Triphala Ke Fayde Bataen Skin Ke Liye In Hindi

यदि आप बच्चे की कोमल, स्वस्थ और चिकनी त्वचा चाहते हैं तो आप इसका उपयोग कर सकते हैं। बता दें कि इस चूर्ण में एंटीऑक्सिडेंट गुण मौजूद होते हैं और यह विभिन्न त्वचा संक्रमणों से सुरक्षा प्रदान करते हैं। मुँहासे उत्पन्न करने वाले बैक्टीरिया को भी कम करने में सहायक हैं।

त्रिफला पाउडर घर पर कैसे बनाए – How To Make Triphala Powder At Home In Hindi

त्रिफला चूर्ण घर पर बनाने की विधि बेहद ही आसन हैं, यदि आप इसका सेवन करना चाहते है तो आइये हम आपको यह नुस्खा बनाने की विधि बताते हैं। इसके लिए आप सही सामग्री खरीद ले जिसकी जानकारी हम आपको नीचे दे रहे हैं।

सामग्री – Ingredients

  • आंवला – 80 ग्राम
  • बहेडा – 40 ग्राम
  • हरड़ – 20 ग्राम
  • ओखल और मूसल

त्रिफला चूर्ण बनाने की विधि इन हिंदी – Triphala Churna Banane Ki Vidhi In Hindi

चूर्ण बनाने के लिए सभी सामग्रियों को उचित मात्रा में ले और अच्छे से सुखा ले। फिर इसका पावडर बनाकर बारीक छान ले और सभी सामग्रियों को मिक्स कर ले।

त्रिफला चूर्ण के नुकसान (चेतावनी) – Triphala Churna Side Effects In Hindi

triphala powder ke nuksan in hindi त्रिफला चूर्ण से जहां बेशुमार फायदे है तो वही कुछ नुकसान भी देखने को मिलते हैं। तो आइए जान लेते हैं इन त्रिफला के सेवन से होने वाले इन दुष्प्रभावो के बारे में।

  • त्रिफला चूर्ण एक सुरक्षित और आयुर्वेदिक उपचार माना जाता हैं और यह लम्बे समय से उपयोग किया जा रहा हैं। लेकिन फिर भी इसके उपयोग के दौरान कुछ सावधानियां आवश्य बर्तनी चाहिए अन्यथा नुकसान भी हो सकते हैं।
  • त्रिफला मधुमेह से ग्रसित व्यक्तियों के लिए अच्छा माना जाता हैं लेकिन फिर भी इसका उपयोग करने से पहले आप किसी नजदीकी चिकित्सक से परामर्श अवश्य कर ले।
  • त्रिफला बच्चो के लिए अच्छा होता हैं लेकिन इसकी मात्रा सीमित होनी चाहिए क्योंकि अधिकता की स्थित में बच्चो को दस्त या पेट सम्बंधी अन्य समस्या झेलनी पड़ सकती हैं।
  • गर्ववती या स्थनपान कराने वाली महिलाओं को त्रिफला के सेवन से परहेज करना चाहिए।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here