ओट्स और ओटमील खाने के 9 फायदे- Oats aur Oatmeal khane ke fayde in Hindi

1
884
oats khane ke fayde
oats khane ke fayde

oats khane ke fayde hindi me: जई (Oats in Hindi) दुनिया में पाए जाने वाले सबसे स्वास्थ्यप्रद अनाज में से एक हैं। जई को ही हम ओट्स (what is oats name in hindi) के नाम से जानते हैं। ओट्स एक ऐसा अनाज है जोकि महत्वपूर्ण विटामिन, खनिज, फाइबर और एंटीऑक्सिडेंट की मात्रा से भरपूर होता है। कुछ अध्ययनो से यह पता चला है कि जई और दलिया आपके शरीर के लिए बेहद फायदेमंद साबित होते हैं। ओट्स से होने वाले फायदों में वजन कम होना, रक्त शर्करा का स्तर कम होना और हृदय रोग होने की संभावना कम होना आदि फायदे शामिल हैं। इस लेख में हम आपको ओट्स खाने के 9 ऐसे फायदों (Health Benefits of Eating Oats and Oatmeal) के बारे में बताने जा रहें हैं, जो आपको पता होना चाहिए।

ओट्स और ओटमील क्या हैं- Oats aur Oatmeal kya hota hai?

image source: finecooking

what is oats in hindi : ओट्स एक सबूत अनाज भोजन होता है जिसे वैज्ञानिक रूप से एवेना सैटिवा के रूप में जानते हैं। ओट्स एक तरह का बीज ही होता है जो जई से बनता है। बता दें कि यह एक ऐसी चीज है जो स्वस्थ के लिए बेहद फायदेमंद होती है। इसमें अधिक मात्रा में फाइबर और कई पोषक तत्व पाए जाते हैं। बहुत से लोग ओट्स को नाश्ते में खाना पसंद करते हैं। ओट्स में बहुत ही अच्छी क्वालिटी का फाइबर पाया जाता है जो जल में आसानी से घुल जाता है जिसकी वजह से आपके शरीर को इसे पचाने में ज्यादा मेहनत नहीं करनी पड़ती। आपको जानकर हैरानी होगी कि जई की फसलों को कभी जानवरों को खिलाया जाता था। लेकिन बाद में इसमें पाए जाने वाले पोषक तत्वों का पता चलने के बाद इसे इंसान द्वारा भी खाया जाने लगा। आजकल तो लोग ओट्स को अलग-अलग तरीकों से बनाकर खाना पसंद करते हैं।

(1) ओट्स अविश्वसनीय रूप से पौष्टिक होते हैं- oats nutrition facts in Hindi

oats khane ke fayde ओट्स अविश्वसनीय रूप से पौष्टिक होते हैं। इसमें पाए जाने वाले सभी तत्व संतुलित मात्र में होते हैं। ओट्स की सबसे अच्छी बात है कि यह कार्ब्स और फाइबर दोनों ही भरपूर मात्र में पाया जाता है, जिससे यह आपके वजन को संतुलित करने में मदद करता है। ओट्स में शक्तिशाली फाइबर बीटा-ग्लूकन (beta-glucan) भी पाया जाता है। इसके अलावा इसमें हमारे द्वारा रोजाना खाए जाने वालों अनाजों से अधिक प्रोटीन और वसा होता है। ओट्स या जई कई तरह के महत्वपूर्ण विटामिन, खनिज और एंटीऑक्सीडेंट यौगिकों से भरपूर है।

सूखे जई के आधा कप (78 ग्राम) में शामिल पौषक तत्व

ओट्स में पाए जाने वाले पोषक तत्व (oats nutrition)  % of Reference Daily Intake (RDI) 
मैंगनीज 191%
फास्फोरस 41%
कॉपर 24%
मैग्नीशियम 34%
जस्ता 20%
लोहा 20%
फोलेट 11%
विटामिन बी 1 (थियामिन) 39%
विटामिन बी 5 (पैंटोथेनिक एसिड) 10%

इन सभी पौषक तत्वों के अलावा (oats me kya kya hota hai) ओट्स में कैल्शियम, पोटेशियम, विटामिन बी 6 (पाइरिडोक्सिन) और विटामिन बी 3 (नियासिन) की भी थोड़ी मात्रा पाई जाती है।

(2) जई (ओट्स) एंटीऑक्सिडेंट से भरपूर है जिसमें एवेनथ्रामाइड्स शामिल है- Oats (oats) are rich in antioxidants that include Avenanthramides

oats dalia benefits ओट्स एंटीऑक्सिडेंट और लाभकारी संयंत्र यौगिकों से भरपूर होता है जिसको पॉलीफेनोल (polyphenols) कहा जाता है। एंटीऑक्सिडेंट के एक अनूठे समूह को एवेनथ्राम्रामाइड्स कहा जाता है। एवेनथ्राम्रामाइड्स शरीर में नाइट्रिक ऑक्साइड के उत्पादन को बढ़ाकर रक्तचाप को कम करने में मदद करता है। यह एंटीऑक्सिडेंट रक्त को पतला करने करते हैं और बेहतर रक्त प्रवाह करने में मदद करते हैं। इसके अलावा यह शरीर में खुजली को रोकते हैं। इन सभी के अलावा ओट्स में  फेरुलिक एसिड भी काफी ज्यादा मात्रा में पाया जाता है जो एक और एंटीऑक्सिडेंट है।

(3) ओट्स खाने के फायदे यह बीटा-ग्लूकॉन से भरपूर होता है- Oats Contain a Powerful Soluble Fiber Called Beta-Glucan

ओट्स में एक शक्तिशाली घुलनशील फाइबर होता है जिसे बीटा-ग्लूकॉन कहा जाता है ओट्स में बड़ी मात्रा में बीटा-ग्लूकॉन, एक प्रकार का घुलनशील फाइबर होता है। आपको बता दें कि यह फाइबर आंशिक रूप से पानी में घुल जाता है और आंत में एक जेल जैसा घोल बनाता है। आइये अब आपको बीटा-ग्लूकॉन के कुछ फायदे बताते हैं।

यह एलडीएल और टोटल कोलेस्ट्रोल लेवल को कम करता है।

रक्त शर्करा और इंसुलिन प्रतिक्रिया को कम करता है।

यह पाचन तंत्र में अच्छे जीवाणुओं की वृद्धि करता है।

सीधी बात- ओट्स बीटा-ग्लूकॉन में उच्च होता है जिससे आपके शरीर में कई सारे फायदे हैं। यह कोलेस्ट्रॉल और रक्त में सुगर लेवल को कम करने में काफी मदद करता है। यह आपकी आंत में स्वस्थ बैक्टीरिया को बढ़ाता है।

(4) ओट्स शरीर में कोलेस्ट्रॉल के स्तर को कम करता है और एलडीएल कोलेस्ट्रॉल की रक्षा करता है- Lower Cholesterol Levels and Protect LDL Cholesterol From Damage

ओट्स शरीर में कोलेस्ट्रॉल के स्तर को काफी कम करता है। यह तो आप जानते ही होंगे कि हर साल विश्व में बड़ी मात्र में लोग हृदय रोग की वजह से मौत का शिकार हो जाते हैं। बता दें कि हृदय रोग का सबसे बड़ा करण रक्त में उच्च कोलेस्ट्रॉल का उपस्थित होना है।

  • कई अध्ययनों से पता चला है कि ओट्स में पाया जाने वाला बीटा-ग्लूकॉन फाइबर टोटल और एलडीएल कोलेस्ट्रॉल लेवल को कम करने में मदद करता है।
  • बीटा-ग्लूकॉन फाइबर कोलेस्ट्रॉल-युक्त मल के उत्सर्जन को बढ़ा सकता है जिससे कि रक्त में कोलेस्ट्रॉल के स्तर को कम किया जा सकता है।
  • एलडीएल (bad cholesterol) कोलेस्ट्रॉल का ऑक्सीकरण तब होता है जब एलडीएल मुक्त कणों के साथ प्रतिक्रिया करता है। यह क्रिया हृदय रोग के बढ़ने का मुख्य कारण होती है।
  • बेड कोलेस्ट्रॉल (LDL) धमनियों में सूजन पैदा करता है और ऊतकों को नुकसान पहुंचाता है, जिसकी वजह से दिल के दौरे और स्ट्रोक का खतरा बढ़ सकता है।
  • एक अध्ययन से यह पता चला है कि ओट्स में एंटीऑक्सिडेंट पाए जाते हैं जो एलडीएल ऑक्सीकरण को रोकने के लिए विटामिन सी के साथ काम करते हैं।

(5) जई के औषधीय गुण खून में शुगर लेवल को नियंत्रित कर सकता है – Oats Can Improve Blood Sugar Control In Hindi

आजकल टाइप 2 डायबिटीज एक आम बीमारी काफी आम हो गई है। इस बीमारी में खून में शर्करा की मात्रा बढ़ जाती है। खून में शर्करा की मात्रा का बढ़ना इंसुलिन हार्मोन संवेदनशीलता में कमी के कारण होता है।

ओट्स ब्लड में शुगर के स्तर को कम करने में मदद कर सकता है। यह खासकर ऐसे लोगों के लिए बेहद फायदेमंद है जिनका वजन काफी ज्यादा है या फिर जिन्हें जिन्हें टाइप 2 डायबिटीज है। जई के औषधीय गुण शरीर में इंसुलिन संवेदनशीलता में सुधार भी कर सकता है।

इन सभी प्रभावों को मुख्य रूप से बीटा-ग्लूकन की एक मोटी जेल बनाने की क्षमता के लिए जिम्मेदार ठहराया जाता है। जो पेट को खाली होने और रक्त में ग्लूकोज के अवशोषण को रोकता है।

(6) ओट्स के फायदे बताइए वजन कम करने के लिए – oats benefits for weight loss in hindi

ओट्स एक ऐसा फूड है जो आपका वजन तो कम करता है लेकिन इसके साथ ही आपका पेट भी भरता है। आप ओट्स का इस्तेमाल नाश्ते में कर सकते हैं। ओट्स को आप मसालों के उपयोग से स्वादिष्ट भी बना सकते हैं। इसके खाने से आपके शरीर को कम केलोरी मिलती है, जिससे वजन कम करने में मदद मिलती है। ओट्स में पाए जाने वाले बीटा-ग्लूकॉन की वजह से आपका पेट आपको भरा हुआ महसूस होता है, जिसकी वजह से कम भूख लगती है और आपको कई फायदे (jai khane ke fayde) प्राप्त होते हैं।

(7) बचपन के अस्थमा के लिए भी फायदेमंद है ओट्स- Decrease the Risk of Childhood Asthma In Hindi

आजकल बच्चों में अस्थमा की बीमारी सबसे आम है। यह शरीर की सांस लेने वाली नालियों में होने वाली बीमारी है जिसमें सांस लेने में परेशानी होती है। हालांकि इस बीमारी के सभी बच्चों में सामान लक्षण नहीं होते। इस बीमारी में कुछ बच्चो को सांस लेने में दिक्कत होती है, किसी को खांसी और किसी को घरघराहट होती है।

कई शोधकर्ताओं का मानना है कि ठोस खाद्य पदार्थों से छोटे बच्चों को अस्थमा और अन्य एलर्जी रोगों के होने का खतरा बढ़ सकता है।

हालांकि अध्यन से यह भी पता चला है कि यह बात सभी खाद्य पदार्थों पर लागू नहीं होती। 6 महीने की उम्र से पहले शिशुओं को ओट्स खिलाना अस्थमा की रिस्क को कम कर सकता है। ( 1 )

(8) ओट्स का स्किन केयर में इस्तेमाल-  oats benefits for skin in hindi

आपको यह जानकर हैरानी हो सकती है कि जई का इस्तेमाल स्किन केयर प्रोडक्ट्स में भी किया जाता है। उत्पादों के निर्माता अक्सर पतले ज़ई को “colloidal oatmeal” के रूप में सूचीबद्ध करते हैं। बता दें कि एफडीए ने 2003 में स्किन के लिए एक सुरक्षात्मक पदार्थ के रूप में कोलाइडल ओटमील को मंजूरी दे दी है। जई का इस्तेमाल  त्वचा में खुजली और जलन के उपचार में भी उपयोग किया जाता है। ओट से बने स्किन प्रोडक्ट्स एक्जिमा के असहज लक्षणों को भी कम कर सकते हैं। इस बात का ध्यान रखें कि त्वचा की देखभाल करने वाले ओट्स बेस्ड प्रोडक्ट्स से ही त्वचा को फायदा होता है इसे खाने से त्वचा में कोई खास फायदा नहीं होता। (2)

(9) ओट्स कब्ज से राहत दिलाने में मदद करता है-  Constipation se rahat dilaane me madad karta hai oats

ओट्स कब्ज से राहत दिलाने में मदद कर सकता है। बुजुर्ग लोगों को अक्सर कब्ज की परेशानी होती है जिसमें अक्सर मल त्याग अनियमित हो जाता है और बहुत दिक्कत का सामना करना पड़ता है। बुजुर्गों में कब्ज को दूर करने के लिए अक्सर जुलाब (Laxatives) का इस्तेमाल किया जाता है। भले ही जुलाब कब्ज को कम करने में मदद करते हैं लेकिन इसके इस्तेमाल से वजन कम होता है और जीवन की गुणवत्ता भी कम होती है। (3)

  • कई अध्ययनों से इस बात का पता चला है कि  जई का चोकर (अनाज की फाइबर युक्त बाहरी परत) बुजुर्ग लोगों में कब्ज को दूर करने में मदद करती है। (4)
  • जब 30 लोगों पर परीक्षण किया गया तो यह पाया कि जो 12 सप्ताह तक रोजाना ओट चोकर युक्त सूप या मिठाई का सेवन करते हैं, उनकी कब्ज की परेशानी में काफी सुधार हुआ। (5)
  • जिन रोगियों परीक्षण किया गया था उनमें से  59% 3 महीने के अध्ययन के बाद जुलाब का उपयोग बन करने में सक्षम थे।

oats khane ke fayde hindi me, oats in Hindi

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here